संविधान निर्माण के लिये संविधान सभा (Constituent Assembly) की माँग (निर्माण)

संविधान निर्माण के लिये संविधान सभा (Constituent Assembly) की माँगIndian Constitution General Knowledge in Hindi Notes (India about Facts)

its Indian constitution general knowledge in Hindi PDF quiz | demand of constituent assembly for Indian constitution pats and subjects of cabinet mission India arrival, drafting committee, cripps mission, constituent assembly member, chairman, temporary chairman, president, vice-president name, day of destiny Gk notes.
Indian Constitution General Knowledge in Hindi Quiz

संविधान निर्माण के लिये संविधान सभा (Constituent Assembly) की माँग

1) सर्वप्रथम संविधान सभा (Constituent Assembly) के लिये लोकमान्य तिलक ने 1895 ई. में स्वराज विधेयक के माध्यम से किया जो अप्रभावी रहा।

2) महात्मा गाँधी ने स्पष्ट शब्दों में 1922 ई. में कहा कि भारतीय संविधान (Indian Constitution) भारतीयों की इच्छानुसार ही होगा।

3) सर्वप्रथम औपचारिक रूप से एम.एन.राय ने संविधान सभा (Constituent Assembly) के विचार का प्रतिपादन किया, जिसे लोकप्रिय मूर्तरूप प्रदान किया गया (जवाहर लाल नेहरू द्वारा सन् 1936, 1937, 1938 के मग्रिरू अधिवेशन में)।

4) पहली बार ब्रिटिश सरकार ने सन् 1940 में स्वीकारा की भारतीय संविधान (Indian Constitution) संभावतः भारतीय ही तैयार करेंगे।

5) क्रिप्श मिशन सन् 1942 ने संविधान निर्माण हेतु संविधान सभा (Constituent Assembly) के गठन की बात कही किन्तु उसे स्वीकार नहीं किया गया।

6) कैबिनेट मिशन भारत आगमन – (सन् 23 मार्च 1946 ई.)

≫ ≫ (अध्यक्ष) पैथिकलोरेन्स   ≫ ≫ (सहायक) ए.वी. अलेक्जेण्डर, स्टैफर्ड क्रिप्स

रिपोर्ट (Report)

भारतीय संविधान (Indian Constitutions) निर्माण हेतु एक संविधान सभा (Established Constituent Assembly) का गठन किया जाए, जिसमें 389 सदस्य होंगे।

✔ अन्तरिम सरकार का गठन – सितम्बर, 1946

कार्यकारी परिषद सदस्य – 14

 सभापति – लार्ड माउण्टबेटन

उपसभापति – जवाहर लाल नेहरू

संविधान सभा के दो कार्य – 

★ संविधान का निर्माण।

★ जब तक संसद का गठन न हो जाए, तब तक संसद के रूप में कार्य करना।

संविधान सभा के सदस्य(कुल 389)

★ 292 ब्रिटिश (भारत प्रान्त के)

✷ 93 (देशी रियायतों से) Constituent Assembly

★ 04 मुख्य आयुक्त प्रान्तों से [दिल्ली, कुर्ग, अजमेर (माखाड़), बलुचिस्तान]

✷ प्रान्तों को > बी > सी ग्रुप में विभाजित किया गया।
‘A’ ग्रुप    ➛   हिन्दु बाहुल्य प्रान्त
‘B’ ग्रुप    ➛   मुस्लिम बहुल्य प्रान्त
‘C’ ग्रुप    ➛   बंगाल व असम को रखा गया ।

★ संविधान सभा के सदस्यों का निर्वाचन प्रान्तीय विधानसभा के सदस्यों के द्वारा अप्रत्यक्ष रूप से किया जाना था। जबकि देशी रियायतों में प्रतिनिधियों के चयन की पहति परामर्श से तय की जानी थी।

निर्वाचन में कांग्रेस को 208, लीग को 73 स्थान मिले।

★ संविधान सभा की प्रथम बैठक डाॅ. सच्चिदानंद सिंहा की अस्थायी अध्यक्षता (Temporary Chairman) में दिसम्बर 1946 ई. में हुई, जिसमें मुस्लिम लीग शामिल नहीं हुआ।

11 दिसम्बर, 1946 को डाॅ. राजेन्द्र प्रसाद को स्थायी अध्यक्षता में इसकी बैठक हुई, जिसमें लीग शामिल हुआ।

★ गतिरोध उत्पन्न होने पर (मुस्लिम लीग द्वारा अलग संविधान सभा के गठन की मांग पाकिस्तान के लिये करने पर) उसे दूर करने के लिये संविधान सभा का पुर्नगठन किया गया।

6 नवम्बर, 1949 को 299 सदस्यों में से 284 सदस्य उपस्थित थे और उन्होंने संविधान पर हस्ताक्षर किया और आंशिक रूप से संविधान को लागू कर दिया गया।

✔ संविधान का निर्माण          ➛  26 नवम्बर, 1949

संविधान लागू हुआ           ➛  26 जनवरी, 1950

✔ संविधान पर पहला हस्ताक्षर  ➛  डाॅ. राजेन्द्र प्रसाद

प्रारूप समिति (Drafting Committee) – 

★ इसमें 06 सदस्य शामिल थे (डाॅ. भीमराव अम्बेडकर, अध्यक्ष के अलावा)

06 सदस्यों के नाम

(1) अल्लादी कृष्णा स्वामी अय्यर

(2) एन.गोपाल स्वामी आयंगर

(3) डी.पी. खेतान (सन् 1948 में मृत्यु के बाद टी.टी. कृष्णमाचारी)

(4) कन्हैयालाल माणिकलाल मुंशी

(5) एन.माधव राव (बी.एल. मिश्र के स्थान पर)

(6) सैय्यद मोहम्मद सादुल्ला

★ इसका गठन 26 अगस्त, 1947 में हुआ

★ रिपोर्ट फरवरी 1948 को दिया

भारतीय संविधान के भाग और उनमें दिये गये विषय (Constitution Parts and Subject)

✷ मूल संविधान में 22 भाग, 08 अनुसूचियाँ, 293 अनुच्छेद थे, किन्तु इस समय 22 भाग, 12 अनुसूचियाँ और विभिन्न संविधान संसोधान के द्वारा अनेक अनुच्छेदों को जोड़ा गया

★ जिससे इसकी संख्या बढ़कर वर्तमान में लगभग 445 अनुच्छेद से भी ज्यादा हो गई है।

संविधान भागसंविधान विषय
भाग 1संघ और उसका राज्य क्षेत्र
भाग 2 नागरिकता
भाग 3 मूल अधिकार
भाग 4राज्य के नीति निदेशक तत्व
भाग 4(क) मूल कत्र्तव्य, इसे 42 वें संविधान संसोधान संविधान
भाग 5संघ की कार्यपालिका, विधायिका, न्यायपालिका
भाग 6राज्य की कार्यपालिका, विधायिका, न्यायपालिका
भाग 7पहली अनुसूची के भाग ‘क‘  के राज्य, इसे 7वाँ संविधान संसोधान अधिनियम सन् 1956 के द्वारा निकाल दिया गया।
भाग 8संघ राज्य क्षेत्र
भाग 9 पंचायतें इसे 73वाँ संविधान संसोधान अधिनियम 1992 के द्वारा जोड़ा गया
भाग 9(क) नगर पालिका, इसे संविधान संसोधान अधिनियम 1992 के द्वारा जोड़ा गया
भाग 10अनुसूचित जाति व जनजाति क्षेत्र
भाग 11संघ और राज्यों के बीच सम्बन्ध (विधायी, प्रशासनिक व वित्तीय)
भाग 12वित्त, सम्पति, संविदाएँ और वाद
भाग 13भारत के राज्य क्षेत्र के भीतर व्यापक वाणिज्य और समागम
भाग 14संघ व राज्यों के अधीन सेवाएँ शामिल
भाग 14(क)अधिकरण (प्रशासनिक) 42वाँ संविधान (संशोधन 1976 के द्वारा शामिल)
भाग 15निर्वाचन
भाग 16कुछ वर्गो के संबंध में विशेष उपबन्ध (पिछड़े वर्गो, अनूसूचित जाति, जनजाति, एग्लो इण्डियन समुदाय)
भाग 17राजभाषा (संघ और प्रादेशिक भाषाएँ)
भाग 18आपात उपबन्ध (352-356-360)
भाग 19प्रकीर्ण
भाग 20संविधान संशोधन
भाग 21अस्थायी संक्रमण कालीन और विशेष उपबन्ध
भाग 22संक्षिप्त नाम प्रारम्भ, हिन्दी में प्राधिकृत पाठ

प्रमुख समितियाँ और उसके अध्यक्ष का नाम (Constitution Committee and Chairman)

संविधान सभा निर्माण (Constituent Assembly) के अंतर्गत भारतीय संविधान के प्रमुख समितियां और उनके अध्यक्ष का नाम निम्नानुसार है :-

स.क्र.प्रमुख समितियों का नामअध्यक्ष का नाम
1.संघ अधिकार/शक्ति समितिपं. जवाहर लाल नेहरू
2.संघ संविधान समितिपं. जवाहर लाल नेहरू
3.राज्य समितिपं. जवाहर लाल नेहरू
4.उद्देश्य प्रस्ताव समितिपं. जवाहर लाल नेहरू
5.नियम समितिडाॅ. राजेन्द्र प्रसाद
6.संचालन समितिडाॅ. राजेन्द्र प्रसाद
7.परामर्शदात्री समितिसरदार वल्लभ भाई पटेल
8.प्रान्तीय संविधान समितिसरदार वल्लभ भाई पटेल
9.मूल अधिकार समितिसरदार वल्लभ भाई पटेल
10.अल्प संख्यक समितिसरदार वल्लभ भाई पटेल
11.संवैधानिक सलाह समिति वी.एन. राव
12.नीति निदेशक तत्व समितिडाॅ. भीमराव अम्बेडकर
13.झण्डा समितिजे.बी. कृपलानी

 

★ 15 अगस्त, 1947 को ‘‘Day of Destiny (नियत दिन)‘ कहा गया ।

संविधान 26 नवम्बर, 1949 को बना, किन्तु इसे पूर्ण रूप से लागू 26 जनवरी 1950 को किया गया।

★ 26 जनवरी, 1950 को ‘‘प्रारम्भ की तारिख‘‘ कहा गया।

26 जनवरी, 1930 को ‘‘प्रथम स्वतंन्त्रता दिवस‘‘ रावी नदी के तट पर तिरंगा लहराकर मनाया गया था इसलिये संविधान को 26 जनवरी को पूर्णतः लागु करने की तिथि घोषित की गई।

इन्हें भी पढ़ें

विषय संबंधित पोस्ट

reply

Your email address will not be published.